हिंदी - हमारी मातृ-भाषा, हमारी पहचान

हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए अपना योगदान दें ! ये हमारे अस्तित्व की प्रतीक और हमारी अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है !

गुरुवार, 4 नवंबर 2010

घर घर दीप जले - चहुँ और खुशी फैले

 

प्रिय मित्रों और पाठको,

दीपावली - दीपों की श्रंखला से सजी, रोशनी से जगमग, प्रकाशमय महापर्व भारतीय संस्कृति का विश्व में ध्वजवाहक है, ये केवल एक पर्व नहीं, ये तो हमारी उर्जा को नवस्फूर्ति से संजोने वाला एक प्रतीक है !  जब बात भावों से जुडी हो तो शब्द भी कभी कभी व्याख्या के लिए कम पड़ जाते हैं, दिवाली भी एक ऐसा पर्व है जो बचपन से लेकर अब तक हर वर्ष खुशियों का, आनन्द का, सपनों का और सम्रद्धता का सन्देश हमें देता आया है !  

diwali-lights

बुराई पर अच्छाई की विजय, असत्य पर सत्य की मेधा और अन्धकार पर प्रकाश की ये बेला विश्व में भारतीय सूर्य की चमक है !  जब घरों की और दिलों की सफाई कर हर आँगन को हम नया नवेला बनाने के लिए उत्सुक रहते हैं, आर्थिक, सामाजिक प्रगति के सोपानो को संजोते, अभिलाषा के दीप जला हम असाध्य और असंभव को भी कर्म से पा लेने की द्रढता का वचन लेते हैं - उस पल को ही दिवाली कहते हैं, अहंकार , क्रोध और आलस्य पर विजय को रोशनी देने वाला ये महापर्व  जैसे सारे  अच्छे, महान और सार्थक उद्देश्यों का महासंगम हो !

कितनी यादें हैं इस पर्व के साथ, हर वर्ष कुछ न कुछ सकारात्मक ही हम जोडते हैं ! बचपन में पूरे घर की पुताई, कलई और चूने का गलाना और फिर पुताई के बाद हाथो का फटना कौन भूल सकता है, फिर जब लिपे पुते आँगन और दीवारे परिणाम के रूप में दिखतीं थी तो मन प्रप्फुल्लित हो उठता था, कुछ रुपयों के पटाखे – चकरी, राम बाण,  नाग, सुतली बम और पता नहीं क्या क्या ….रात में परिवार के साथ लक्ष्मी की मूर्ति दीवार पर काढ कर कुछ तेल के और कुछ घी के दिए जलाना और फिर पड़ोसियों, स्वजनों का लक्ष्मी पूजन के बाद हमारे घर पर दिए रखने आना और हमारा उनके घर सूप में दिए रखकर ले जाकर उनके घर रखना जैसे एक दूसरे की सम्रद्धि के लिए , सामंजस्य के लिए और समग्रता के लिए, सामजिक एकता के लिए बुने हुए स्तंभ हों जिस पर समाज नाम का ढांचा टिका है !  एक दिन बाद सारे परिवार जन का एक साथ मिलकर गोवर्धन परिक्रमा का क्रम एकसूत्र में बंधने के प्रेरणा देता है !   जगमग रौशनी से घर सब कुछ प्रकाशमय बना देते थे, बिजली नहीं तो दीप श्रंखला ही अन्धकार को प्रकाश में बदलने के लिए पर्याप्त थी !

अब शिकागो में दशहरे से ही घर को सजा दिया गया है, पहले तो स्कूल की छुट्टियाँ भी दशहरे से दिवाली तक हो जाती थी, पर शायद धीरे धीरे वो क्रम अब बंद हो गया है !  दिवाली की छुट्टियों में शहर से घर जाने का आनन्द अविस्मरणीय है !

कल ग्वालियर में भाई बाईक से फिसल गया तो उसके हाथ में गहरी चोट आई, वो भी दायें हाथ में, उसके CAT परीक्षा से कुछ ही दिन पहले ऐसा होना उसके लिए बहुत दर्द देने वाला है, शायद हाथ के दर्द से भी ज्यादा, पर आशा है कि दिवाली का प्रकाश जब अमावश्या को भी पूनम बना देता है तो वो अवश्य ही उसको भी नयी प्रेरणा और शक्ति देकर  आने वाले रास्ते के लिए उसे आत्मविश्वास देगा !  इस दिवाली के अवसर पर यहाँ शिकागो के ही एक मंदिर में निकुंज का एक मंच पर कार्यक्रम है, कुछ और नयी सुखद यादें जो संजोना है इस दिवाली पर !!

मैंने फेसबुक पर किसी के स्टेटस पर पढ़ा था :

“आई दीवाली फिर इक बार, हो जाओ सब तैयार
सबको हर बार देते हैं,इस बार खुद को दो उपहार”

नारायणांशो भगवान् स्वयं धन्वन्तरिर्ममहान्। पुरा समुंद्रमथने समत्तस्थौ महोदधेः।।  सर्व वेदेषु निष्णातो मंत्र तंत्र विशारदः। शिष्यो हि बैनतेयस्य शंकरस्योपशिष्यक।।

diwali1

आप सभी को ये प्रकाशमय महापर्व सम्रद्धि, संतुष्टि, आत्मविश्वाश और खुशियों का खजाना दे ! मेरी हार्दिक शुभकामनायें आप सभी दोस्तों और पाठकों के साथ हैं !

सादर,

राम त्यागी

diwali

27 टिप्‍पणियां:

सलीम ख़ान ने कहा…

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं.

भवदीप सिंह ने कहा…

निकुंज के कार्यक्रम का निमंत्रण मिला. पर किसी करणवश हम लोग नहीं आ पा रहे हैं. उसके लिए शमा अर्चना करते हैं.

उम्मीद है के कार्यक्रम अच hoga

दिवाली की आप सभी को शुभकामनायें.

honesty project democracy ने कहा…

आपके भाई के बारे में जानकर दुःख हुआ ..लेकिन सब ठीक हो जायेगा यही कामना है ....आपको और आपके समस्त परिवार को दीपावली की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें....

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आपको और आपके परिवार में सभी को दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ! !

डॉ टी एस दराल ने कहा…

दीवाली से जुडी अच्छी यादें ।
दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें ।

ललित शर्मा ने कहा…

दीपावली की हार्दि्क शुभकामनाएं
ढेर सारी बधाई

सतीश सक्सेना ने कहा…

दीपावली पर मैं आपके लिए मंगल कामना करता हूँ !
सस्नेह

राम त्यागी ने कहा…

@सलीम जी
@भवदीप जी
@ललित जी
@शिवम जी
@दराल जी
@जय जी

आपको और पूरे परिवार को मेरी ओर से बहुत बहुत शुभकामनायें इस पावन पर्व की !

धन्यवाद !

राम त्यागी

राज भाटिय़ा ने कहा…

आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामाएं

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

आपको परिवार एवं इष्ट स्नेहीजनों सहित दीपावली की घणी रामराम.

रामराम

abhi ने कहा…

“आई दीवाली फिर इक बार, हो जाओ सब तैयार
सबको हर बार देते हैं,इस बार खुद को दो उपहार
-बहुत सही बात है

मेरे पटना के कुछ दोस्त थे, वो पटना से जाते थे अपने गाँव दिवाली में...मैं एकदम अच्छे से ये समझ सकता हूँ की वो घर जाने का आनंद कैसा होता होगा...

बहुत अच्छी लगी ये पोस्ट...मैंने सोचा था की कुछ लिखूं पुरानी बातें, लेकिन दो चीज़ें थी..एक दो पोस्ट बहुत लंबी हो जाती और दूसरी की लिखते लिखते दिल एकदम पुराने दिनों मिएँ चला जाता...

खैर,

आपको और आपके पुरे परिवार को हैप्पी दिवाली..

आपके भाई जल्द ही ठीक हो जाएँ और CAT में वो अच्छा करें..ये हम प्राथना करते हैं..

राम त्यागी ने कहा…

@राज भाटिया, सतीश सक्सेना, ताऊ एवं अभिषेक -- आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद !

राम त्यागी ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
vijaypal ने कहा…

आपको भी इस महापर्व की हार्दिक शुभकामनाये

Udan Tashtari ने कहा…

सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

-समीर लाल 'समीर'

ZEAL ने कहा…

.

Happy Diwali to you and your family.

Best wish for his exams and I hope he will recover soon.

.

चैतन्य शर्मा ने कहा…

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं.....

अजय कुमार ने कहा…

प्रदूषण मुक्त दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

Dorothy ने कहा…

इस ज्योति पर्व का उजास
जगमगाता रहे आप में जीवन भर
दीपमालिका की अनगिन पांती
आलोकित करे पथ आपका पल पल
मंगलमय कल्याणकारी हो आगामी वर्ष
सुख समृद्धि शांति उल्लास की
आशीष वृष्टि करे आप पर, आपके प्रियजनों पर

आपको सपरिवार दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं.
सादर
डोरोथी.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

छोटे भाई की चोट जल्दी हो और वह CAT में अच्छा करें। आप सभी को दीवाली की शुभकामनायें।

amar jeet ने कहा…

दीपावली की शुभकामनाये ................................

फ़िरदौस ख़ान ने कहा…

दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर पोस्ट है!
--
प्रेम से करना "गजानन-लक्ष्मी" आराधना।
आज होनी चाहिए "माँ शारदे" की साधना।।

अपने मन में इक दिया नन्हा जलाना ज्ञान का।
उर से सारा तम हटाना, आज सब अज्ञान का।।

आप खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

'उदय' ने कहा…

... shubh diwaali !

सुज्ञ ने कहा…

आपको सपरिवार दीपोत्सव की शुभकामनाएँ।
आपके सभी पाठकों को भी शुभकामनाँ॥

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

राम,
आपको, परिजनों एवम मित्रों को दीवावली मंगलमय हो!

प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI ने कहा…

आपको भी दीप-पर्व की बधाई !