हिंदी - हमारी मातृ-भाषा, हमारी पहचान

हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए अपना योगदान दें ! ये हमारे अस्तित्व की प्रतीक और हमारी अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है !

शनिवार, 13 जून 2009

मेड इन इंडिया - घर का जोगी जोगना, दूर गाँव का सिद्ध !!

अभी मार्केट से आ रहा था, सोचा की एक हल्का सा पोस्ट डाल दूं। इधर अमेरिका वासियों ने ऐसा कोई कानून बना रखा है की बाजार में रखी हर वस्तु पर 'made in ...' लिखा रहता है. मेरी सलाह सभी देसी लोगो के लिए यही है की जहां तक संभव हो और क्वालिटी से कोई समझोता न करना पड़े क्यूं न 'made in India' ही खरीदने को प्राथमिकता दें. इससे कुछ न कुछ , किसी न किसी को तो देश में लाभ होगा ही और देश की अर्थव्यवस्था में भी हम अप्रत्यक्ष रूप से कुछ योगदान दे सकते है.

विडम्बना कहें या भूमंडलीकरण, बनती वही चीज भारत में हैं लेकिन मिलती है केवल इधर और वो भी बढे हुए दामों में और हम लोग खुश होकर सस्ता समझकर बड़े चाव से खरीदते है। वैसे ये तो वही बात हुई - घर का जोगी जोगना, दूर गाँव का सिद्ध !! - शायद ये चीज देश में मिले तो हम लेंगे ही नही :(

देखिये एक फोटो जहाँ पर एक भारत में बना हुआ कवर लोस एंजेल्स सिटी की सड़क पर !!


और भी बहुत कुछ बन रहा है देश में - काफी लोगो के पसंदीदा इटालियन चॉकलेट Ferrero Rocher भी !!

शुक्रवार, 12 जून 2009

कैसे करें कोलेस्ट्राल पर नियंत्रण ?? आप की सलाह की सख्त जरूरत !!


पिछले सप्ताह सोचा की चलो डॉक्टर साहब के चक्कर लगा आते है, सब कुछ ठीक ही था, एक मैडम वजन तौलने बुलाती है और बोलती है की कुछ वजन घटा है, बहुत अच्छी बात है, चलो मेने सोचा की ये तो महान उपलब्धि है। उसके बाद खून की जाँच की और पेशाब की जांच, ये साल में एक बार हमारा इंश्योरेंस सेवा प्रदान करता है तो इस बहाने बॉडी की जांच पड़ताल हो जाती है। हम घर आ गए और २-३ दिन बाद डॉक्टर की इच्छा फिर हमसे मिलने की होती है, डॉक्टर मेरे को जांच का स्पष्टीकरण देते हुए दवाई खाने की सलाह देता है. इससे पहले की में कुछ और बताऊ, आपके सामने कोलेस्ट्राल की सीमा या स्तर के बारे में कुछ बता देना बेहतर होगा.


जब आप खून की जांच कराने जाते है तो, मुख्यतः डॉक्टर तीन चीजो का स्तर देखता है -
1. टोटल कोलेस्ट्राल
2. बेकार कोलेस्ट्राल

३. अच्छा कोलेस्ट्राल
4. त्रिग्ल्य्सरिदे (Triglyceride )


टोटल कोलेस्ट्राल की सीमा -
२०० से नीचे - बिल्कुल सही है।
२०० से २३९ उच्च सीमा के बिल्कुल पास।
२४० के ऊपर खतरा है और आप ह्रदय से संबधित रोगों से ग्रस्त हो सकते है।
और मेरा लेवल है २६४

LDL कोलेस्ट्राल की सीमा (इसे बेकार कोलेस्ट्राल भी बोलते है)
१०० के नीचे सम्मान्य होता है
१०० से १२९ सामान्य के आसपास ही मानो
१३० से १५९ सामान्य से ऊपर और उच्च सीमा के आसपास
१६० के ऊपर खतरा है और आप ह्रदय से संबधित रोगों से ग्रस्त हो सकते है।
और मेरा लेवल है - १७४

HDL कोलेस्ट्राल की सीमा (इसे अच्छा कोलेस्ट्राल भी कहते है और जितना ये खून में हो उतना ही बढ़िया )
४० के नीचे नहीं होना चाहिए , नहीं तो आप ह्रदय से संबधित रोगों से ग्रस्त हो सकते है।
६० और इसके आसपास हो तो आप स्वस्थ है और ह्रदय से संबधित रोगों से ग्रस्त होने की कोई संभावना नहीं है।
और मेरा लेवल है ३५

Triglyceride का स्तर -
५० से नीचे - सामान्य
१५० से १९९ - उच्च सीमा के पास
२०० से ४९९ - उच्च सीमा है और आप ह्रदय रोगों से पीड़ित हो सकते है
५०० के ऊपर - उच्च सीमा है, बहुत ही कम ऐसे केस होंगे
और मेरा लेवल है २८८


आप ये जानकारी यहाँ और यहाँ से भी ले सकते है। अगर आप देखें तो सब जगह ही मेने रेकोर्ड तोड़ रखे है। ये एक और साइड इफेक्ट है अमेरिका का , जहाँ पर आप खाते है और आराम फरमाते है पर पसीना नही बहा पाते, प्रकृति से दूर जाकर कौन सुखी रह पाया है।

अब डॉक्टर बोलता है की आप सारी सीमायें लाँघ चुके है, दारुबाज भी नहीं है और शाकाहारी भोजन को ही महत्वा देते है, हाल ही में वजन भी घटाया है तो ये आपके खून में ही कुछ ऐसा है जो लेवल को बढाये जा रहा है. व्यायाम या शारीरिक गतिविधियों से आप १० से २० प्रतिशत तो घटा सकते है पर इस केस में तो मुझे दवाई खानी ही पड़ेगी इसको सही स्तर पर लाने के लिए और हो सकता है की ये दवाई लेती ही रहनी पड़े हर समय. उन्होंने अभी SIMVASTATIN 40 mg नाम की दवाई को लिखा है और रोज खाने की सलाह दी है।


हालाँकि दवाई इस परेशानी से छुटकारा तो दिलाएगी ..लेकिन किस कीमत पर ...कौन खाना चाहता है दवाई अगर कुछ और साधन हो . तो मेरे अनुसार निन्मलिखित चीजें दवाई के विकल्प के तौर पर की जा सकती है -


१। योग साधना
२। खानपान पर नियंत्रण (पूरी और दाल बाटी और बाकी सब चटोरेपण से दूर )
३। बाबा रामदेव के द्वारा दी गयी दवाई खा लो - जैसे दिव्या हृदयामृत वटी , इसके बारे में यहाँ पर पड़ें ।

आप लोगो का क्या कहना है ? अपने अनुभव और सलाह जरूर दे , मेरे लिए इसका बहुत महत्त्व होगा और उन अन्य लोगो के लिए भी जिनको इसी तरह की समस्या है। में कोशिस करूँगा की आप सब की सलाह को एकत्रित करके फिर से ब्लॉग पर या इसी जगह दाल दूँ , जहाँ से लोग इससे लाभान्वित हो सके।


आप सभी का अडवांस में शुक्रिया !!

---------------------------XXXXXXXXX---------------------------
डॉक्टर का कहना है कि आयुर्वेदिक दवाई जो बाबा रामदेव दे रहे है, उस पर कितना शोध किया गया है, यह किसी को पता नहीं है , तो साइड एफ्फेक्ट्स वगैरह के बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता .

दूसरी तरफ किसी भी केस में, योग करो या शारीरक हलचल, दवाई खाओ या आयुर्वेदिक - हमें अपने खाने पर नियंत्रण करना ही होगा. ऊपर आई कमेन्ट और इधर उधर कि बातो को इधर उल्लेखित करना चाहूँगा -

१. कम सुगर कि चीजें खाएं
२. फैट फ्री चीजें ही खाएं
३. ओमेगा ३ सप्लीमेंट
४. टोफू , हरी सब्जी खाएं
५. शारीरिक रूप से सक्रिय रहें
६. बाजार से सामन लेते समय ingrediants पर द्यान दें और वही खरीदें जिसमें फैट और कोलेस्ट्रोल कम हो या बिलकुल भी न हो.
७. फैट फ्री मिल्क ही पीयें.
८ घी न खाएं ( डेयरी products avoid करें )
९. हैवी डिनर न करें
१०. सुबह सुबह लौकी का जूस पीयें , पानी खूब पीयें, सुबह उठकर सबसे पहली चीज पानी पीयें.

गुरुवार, 11 जून 2009

किसानो सावधान ... कृषि की कमाई पर कर ??

प्रणव दादा कुछ ही दिनों में बजट पेश करने जा रहे है, क्या किसानो को अभी से सचेत हो जाना चाहिए की उनके गले पर तलवार चलने वाली है, वैसे कुछ लोग खेती की कमाई के नाम पर मोटी रकम बिना टैक्स दिए ही गटक कर जाते है, कुछ तो सरकार को सोचना चाहिए, जिससे बदले में कुछ मूलभूत ढाँचे में सुधार आ सके। वैसे कृषि पर टैक्स लगाने की बात अस्सी के दसक में उठ चुकी है, पर वोट बैंक की वजह से कोई सरकार इस मुद्दे को हाथ नही लगाना चाहती। अब कांग्रेस की सरकार वाम दलों से मुक्त है तो क्या कुछ ऐसा हो सकता है क्या ?

वैसे एक लेख मिला है रीडिफ़ पर ...http://www.rediff.com/money/2004/nov/06perfin.htm... ये कुछ और ही कहता है, जरूर पड़ें !

बुधवार, 10 जून 2009

अधिकतर ब्लॉगों का मात्र “एक पाठक” होता है! ...

ये लाइन चुराई है तरकश से - http://www.tarakash.com/200906094180/Knowledge-Base/is-blogging-is-dying.html

उड़न तस्तरी जी का लेख पड़ते पड़ते तरकश पर पहुँचा और उधर ये लेख पड़ा, शायद ये हम जैसे कई लोगो की अपेक्षाओ को दर्शाता हुआ लेख है, शुरुआत में मेने जब ब्लॉग लिखना शुरू किया तो यही लगता था की यार कोई पड़ेगा ही नही तो कैसे पता चलेगा की में क्या लिख रहा हूँ, पर फिर सोचा की मन की भडास कही तो निकालो, परदेश में रहकर देश की यादो और अपने जज्बातों को कही तो जगह दूँ।

हमारे कई हिन्दी ब्लॉगर बहुत प्रसिद्ध हो रहे है, अभी हाल ही में द्विवेदी जी की डांट और समझाईस के किस्से बहुत छाए रहे, एक महासय ख़ुद को पंगेबाज कहते है पर बकिलो के डर से अपनी बेबाक बात को बेबाक न रख सके और, ये किस तरह की अभिव्यक्ति है ? कही पर भी एक गाँव की समस्या को इंगित करते नही दिखाते ये हमारे मसहूर ब्लोग्गेर्स, सभी लोग बस कांग्रेस और बीजेपी तक अपने को सीमित रखकर कथित साम्प्रदायिक और अन्य भावनात्मक मुद्दों पर बहस करते रहते है और कभी कभी व्यक्तिगत आवेश में आपस में ही लड़ जाते है और अंग्रेजो के फूट डालो ....वाले कहावत को अभी भी याद दिला जाते है । भारत की ७० प्रतिशत जनसँख्या गांवों में बसती है, और हमें अपने ब्लोग्स पर इनकी उन्नति और शाक्षरता के लिए सार्थक बहस करनी चाहिए।
हमें भुवनेश शर्मा के हाल में लिखे गए ब्लॉग से कुछ सीखना चाहिए जिसमें उन्होंने किसी को गाली देने के बजाय पर्यावरण के बारे में बहुत ही उम्दा लेख लिखा, ऐसे अच्छे प्रयासों की धरा को बहुत जरूरत है।
हमारे ब्लोग्स में कही भी ऊर्जा की बचत कैसे करे, गावो को सौर ऊर्जा और गोबर गैस जैसी उर्जा पद्धतियों से कैसे आए ले जाए, ये सब नही दिखा।

हम सभी अपने अपने लेवल पर बेहतर लिखने की कोसिस करते है, चलो इसमें भारत के ७० प्रतिशत क्षेत्र के उन्नयन के बारे में लिखे सोचे और कुछ करें ....

मंगलवार, 9 जून 2009

पर्यावरण बचाने के लिए में क्या कर सकता हूँ ?


भुवनेश शर्मा जी ने ब्लोग्गेर्स के लिए एक होम वर्क दिया था की वो कुछ ऐसे प्रयास करें की जिससे पर्यावरण की सुरक्षा हो सके, आसपास के लोगो को प्रोत्साहित भी करें और अपने ब्लॉग के माध्यम से जाग्रति भी फैलायें, एक बहुत ही अच्छा कदम था भुवनेश का और में भी इस कड़ी में अपने आप को भुवनेश जी के पीछे कर लेता हूँ, चलो हम सब लोग एक ब्लोग्गेर्स की मानव श्रंखला बनाएं और अपने अपने प्रयासों को यहाँ उल्लेखित करें, ये अभी अपने आप में एक आन्दोलन है, एक सामूहिक प्रयास है, जन जाग्रति और स्वजाग्रती अभियान है। चलो उपदेश के बाद काम की बात कर लेता हूँ।


एक प्रयास जो कल भुवनेश का लेख पड़ने के बाद किया - जब बीबी ने खाना ऑफिस जाते समय नही दिया हो तो अपना एक ही ठिकाना ज्यादातर होता है, शाकाहारी और शुद्ध Subway. सामान्यतः यहाँ पर ये लोग आपके बर्गरनुमा भोजन को एक पन्नी (पोलीथीन) में रखकर देते है, जब उसने हमारे sub को कागज़ में लपेड्रकरपन्नी में रखने की कोसिस की तो मेने मना किया तो वो मेरी तरफ देखने लगा और तब मेने उसे अपने मना करने का कारण समझाया तो वह बहुत खुस हुआ और लाइन में लगे एक दो और लोगो ने मेरा अनुसरण किया, बहुत अच्छा लगा और मेरे योगदान के साथ कुछ और लोगो तक भी ये संदेश पहुँचा ।


एक और बात लिखना चाहूँगा जो हमारी कंपनी बहुत दिनों से प्रयास कर रही है , प्लास्टिक कप की जगह फोम के कप इस्तेमाल कर रहे है, बार बार अपना एक ही कप इस्तेमाल करने को प्रोत्साहित किया जा रहा है, जिससे कम से कम जंक हो। प्रिंटर का इस्तेमाल सही तरीके से करने के प्रयास किए जा रहे है जिससे फालतू पेपर बेकार जाए। अगर कोई सायकिल से आता है तो उसका महिमामंडन किया जाता है, जिससे और लोग भी ऐसा करें।


वैसे में भी सायकिल से ट्रेन स्टेशन तक कभी कभी जाता हूँ, पर में ऐसा इसलिए करता हूँ, जिससे मेरी बीबी को सुबह सुबह मेरे को छोड़ने जाने का कष्ट न करना पड़े, मेरा biking का शौक पूरा हो जाए, और कुछ शारीरिक गतिविधि भी हो जाए, पर मेरे आलस्य की वजह से अब तक केवल मेने एसा ५-६ बार ही किया है, अब इसमें पर्यावरण का तड़का भी लगा देते है और नियमित सायकिल का इस्तेमाल करने पर जोर देते है.


शौपिंग करते समय थैला ?(झोला) का इस्तेमाल करेंगे , न की पन्नियों का। पानी और बिजली तो पैसे से आती है तो पहले से ही लोभ chaaloo है। सबसे बड़ी बात हम लोगो को अपनी कार को दुरस्त रखना चाहिए जिससे वो पर्यावरण को ज्यादा प्रदूषित ना करे। अपने वाहन को आज ही चेक कराये। मेरी कार emission safe है, क्या आपकी भी है ?

बस इतना ही , बाकी आप गुरुजनों पर छोड़ता हूँ :)


कलावती को भूले राहुल लाला

जब वोट की जरूरत थी तब राहुल को कलावती की याद आई और जब उसके मुद्दों को सुलझाने की बात आई तो राहुल जी व्यस्त थे। ये कहानी इस परिवार के असली चेहरे को व्यक्त कराती है। इन लोगो की कथनी और करनी में अन्तर की वजह से ही भारत विश्व के अन्य देशो की तुलना में इतना पीछे रह गया है। अमेठी जहाँ से ये लोग जन प्रतिनिधि है, वहां की स्थिति इस बात को सिद्ध करती है की इनके खाने और दिखने के दांत अलग अलग है। CNN IBN की ये रिपोर्ट भी देखें -


http://ibnlive.in.com/videos/94536/mascot-kalavati-turned-away-from-rahuls-office.html


केवल किसी परिवार में जन्म लेने से कुछ लोग मसीहा बन जाते है, हम लोगो को देश में लोगो को शिक्षित करनेके लिए कुछ प्रयास करने होंगे जिससे लोग इन लोगो का मूल्यांकन उनके विकास के प्रष्ठभूमि के आधार पर कर सकें। अशिक्षा हमें बहुत पीछे धकेल रही है और ऐसे अवसरवादी लोगो को हमारा फायदा लेने के लिए अवसर दे रही है। मेरे पिताजी ने एक लडके को अपने घर रखा हुआ है, उसको वो पढाते है और स्कूल भेजते है, और उनसे बनता है तो उसके फॅमिली को आर्थिक सहायता करते है, वो कहते है की म्रतभोज और दहेज़ की जगह पैसा किसी गरीब की उन्नति में लगाओ तो वो किसी न किसी रूप में फलीभूत होता दिखेगा , जैसा की आप एक पेड़ लगाकर और जब पेड़ के बड़े हो जाने पर छाया लेकर अनुभव करते है।


चलो कुछ ऐसा ही करें जिससे कलावती को राहुल के चक्कर न लगाने पड़े और वह आत्मनिर्भर बने स्वाभिमान से जीने के लिए । हमें युवराज नही जन सेवक चाहिए, राहुल और सिंधिया को महलों में भेज देते है आराम करने के लिए।



शुक्रवार, 5 जून 2009

खुलासा एक और विकास का !!

में अपने राज्य मद्य प्रदेश के बारे में पढ़ रहा था, जैसा की हम सब जानते है की शिवराज सिंह जी की सरकार ने राज्य में पिछली साल बड़े बहुमत से अपने विकास कार्यो के बल पर सत्ता में फिर से वापसी की थी। तो मेने सोचा की ज़रा देखू की क्या विकास यौजनाएं है जो मद्य प्रदेश को २१ वी सदी के राज्य के रूप में भारत का एक अद्वितीय राज्य बनाने की तरफ ले जायेंगी । इसमें कोई दो राय नही की दिग्गी राजा ने इस राज्य की हालत बहुत ख़राब कर दी थी पर मेरे को बीजेपी से बहुत आशा थी और उनकी निम्न लिखित योजनायें देखकर मेरे को लगा की चौहान साब अभी भी आदिकाल में ही जी रहे है। मेरे को उनकी एक भी योजना भविष्य के लिए दूरदर्शी परिणाम देने वाली नही लगी।




ये सब चुनावी वायदे ज्यादा लगते है और विकास के लिये उठाये गये सही कदम कम , अभी मे जब फरबरी मे छुट्टियां बिताने के लिये मोरेना आया था तो देखा और लोगो से बात की तो पता लगा कि ये सब योजनायें जरुरत मन्द लोगो तक पहुन्च ही नही रही हैं. लड्कियो को सायकिल लेने के लिये अफसरो के , मास्टरों के चक्कर लगाने पडते हैं. कुल मिलाकर जमकर भ्रश्टाचार है. कास कि लाडली लक्ष्मी योजना की जगह अस्पतालो की हालत में सुधार किया जाता, जिससे जन्म के समय मां और बच्चे क स्वास्थ्य सही रहता और जन्म की नीव सही रहती पर मेरी बातें स्वास्थ्य मंत्री जी को मजाक लगेगीं.


गाँवों में अभी भी कभी बिजली नही आती और शहरों में उद्योग लगातार बंद हो रहे है, क्या यही कांग्रेस की सरकार को हटाने के बाद उम्मीद थी हमें अपने इस लाडले मुख्यमंत्री जी से ? गावो में अभी भी लोग स्वास्थ्य , सड़क, बिजली और पानी जैसी मूलभूत सुविधाओ के लिए मोहताज है , पुलिस अभी भी डर का अभिप्राय है न की सुरक्षा की मूरत। देशभक्ति और जनसेवा के नाम पर अभी भी करोडो की वसूली से केवल कुछ ही लोग अमीर हो रहे है, वो भी काबिल नही, सब के सब राजनीतिक गुंडे !



मेरे को indiastats वेबसाइट पर कुछ आंकड़े मिले , उनमें मेरे को मद्यप्रदेश कही नही दिखा, ये दो इमेज २१वि सदी के किसी भी राज्य (दुनिया में कही भी) की भविष्य और वर्तमान की झलक दिखलाती है -





क्या ये हमारी सरकार का फर्ज नही बनता की ऐसी योजनायें उनके पास हो जिससे में अपने राज्य का नाम भी इन लिस्ट में देख सकू ? वो भी तब जब हमारे राज्य में किसी भी संसाधनों की कमी नही, प्रकृति ने क्या नही दिया ... नर्मदा की कलकल बहती धारा से लेकर चम्बल के अभ्यारण्य हो या फिर खजुराहो से लेकर भोपाल तक संस्कृतिक धरोहर हो। आप मध्य प्रदेश सरकार की वेबसाइट http://www.mptourism.com/ ही देख लो जिस पर इन सब स्थलों के नाम है पर क्या कुछ ऐसा किया गया जिससे राज्य का नाम भी टूरिस्ट प्लेसेस में आता ?





क्या हमारे मुख्यमंत्री जी का लड़का बिना इन्टरनेट के रहता है , यदि नही तो क्या किया गया आम जनता के लड़को के लिए ?

क्या आपके बच्चे बिना बिजली के रहते है ? क्या सरकारी अस्पतालों में इलाज कराने आप जाते है ? अगर ये सब आम आदमी को मिले तो वही आदर्श सरकार है, नही तो आप भी कांग्रेस से कम नही, आपको लाकर मेरे राज्य ने क्या पाया ? कुछ तो किया होता जिससे मद्य भारत के लोग भी देश के अन्य हिस्सों से प्रतिस्पर्धा कर पाते और हमेशा दिल्ली या अन्य बड़े महानगरो को भागने के बजाय अपने घरेलू शहर में ही किस्मत आजमाते। काश कोई तो करिश्माई अटल आए इस राज्य में भी।