हिंदी - हमारी मातृ-भाषा, हमारी पहचान

हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए अपना योगदान दें ! ये हमारे अस्तित्व की प्रतीक और हमारी अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है !

शुक्रवार, 6 अगस्त 2010

वारेन ड्यून स्टेट पार्क – मिशीगन

 

पिछले सप्ताह कुछ मित्रों के साथ हमारे यहाँ से ११० मील की दूरी पर स्थित वारेन ड्यून ‘बीच’ पर जाना हुआ।  पहले सब कुछ सामान्य  सा था – शहर, सडकें और दुकानें - जैसे ही स्टेट पार्क में प्रवेश किया - एक विशाल नीली खत्म ना होने वाली प्रतिछाया  दिखी और कुछ आधा मील दूरी पार्क में तय की होगी कि दूर दूर तक फैला रेत ही रेत दिखने लगा, मिशीगन झील की विशालता और रेत की तपन प्रकृति के सामंजस्य का नजारा पेश कर रही थी। और हम मंत्रमुग्ध थे इस अनूठी छठा को निहारते हुए !  warrendunesstatepark

निकुंज ने जैसे ही दोस्तों और रेगिस्तान को देखा, खुसी के मारे उछल उठा, कार को पार्क किया और उतरे तो एक बार के लिए तो ऐसा लगा कि राजस्थान की जमीन पर पैर रख दिया हो …दूर दूर तक फैल रेत और विशाल रेत के टीले - रेत के टीलों पर उग आये वृक्ष जैसे कह रहे हों कि कुछ भी असंभव नहीं, देखो ! हम भी तो रेत की तपन झेल कर भी इतने हरे भरे हैं। 

kidsकुछ ही देर में हम समुन्दरनुमा मिशीगन झील की गोद में थे, बच्चे रेत के महल बनाने, बीच के किनारे रेतमय हो पानी में अठखेलियाँ खेलने में मशगूल होकर बेफिक्र होकर खेल रहे थे, बच्चे तो बेफिक्र ही रहते हैं वैसे हर समय पर रेत और पानी मिल जाए फिर तो आनंद चरम पर होता है और इनका आनंदमय होना हमें भी सातवीं आसमान पर पहुंचा देता हैं। 

हम भी पानी में काफी अंदर तक गए, बहुत ही स्वच्छ पानी था। जल प्रकृति के संरक्षण में खड़ा कितना मनोहारी लगता है आलिंगन करते हुए, वही अगर शिव की तीसरी आँख की तरह विराट रूप में आ जाए तो एक सिरहन भी शरीर को कंपा दे ! 

आप वर्चुअल टूर नीचे वाली लिंक पर लें -

http://www.harborcountry.org/warren_beach.html

यहाँ के रेत के ड्यून या टीले बड़े ऊँचे थे, एक तो लगभग २६० फीट थे झील के स्तर से , उस पर चढना बड़ा दुष्कर लग रहा था, हमारे मित्र जिनके हाथ में कैमरा था २-४ कदम चढ़कर ही भाग खड़े हुए, पर हम २-३ मित्रों ने एक सैनिक की तरह ये दुर्गम रास्ता तय किया  पर टीले की चोटी तक पहुंचते पहुंचते शरीर बेहाल था, लेटने का मन कर रहा था, टीले की चोटी काफी समतल थी इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि टीले का व्यास काफी बड़ा था। हमारे सैनिक जो थार में या कश्मीर में तैनात हैं , वो तो इससे भी कहीं दुर्गम और असम्भव से रास्ते रोज तय करते होंगे !!

700px-Tower_Dune_panorama_small

barbequeगर्मी का मौसम हो और बारबेक्यू न किया जाए - ऐसा संभव ही नहीं – मक्का, कुछ सब्जीयाँ सेक सेक कर खाने का आनंद अलग ही था क्यूंकि पसीना जो निकल रहा था, साथ में बैडमिंटन ने भी भागमभाग करा दी, कुल मिलाकर खूब पसीना बहाया।

निकुंज और उसके साथियों ने भी एक्सप्लोरैसन किया इधर उधर पहाडियों पर जाकर, कुल मिलाकर बच्चों का उत्साह देखते ही बनता था !! खुद तो सो लिए कार में - और मुझे तो वापस २ घंटे ड्राईव करना था, खैर ९ बजे घर आ गए और उसके पास फिर जा धमाके एक और दोस्त के घर !!

 

मुझे तो बस अपनी कविता के भाव ही सहज याद आते रहे प्रकृति की गोद में बैठे बैठे … (ये कविता मिशीगन झील के किनारे शिकागो में बैठे बैठे लिखी थी)

me

सामने विशाल झील

पीछे है एक वृहत शहर

कितने  भिन्न हैं  दोनों किनारे 

एक मस्ती का आभास कराये तो दूजा दे मन का आनंद

आसमान से झील को मिलते देखा

जैसे  विचारो को गति पकड़ते देखा

रेत कितना आनंद देता

शीशा बन फिर दर्द भी देता 

photoबच्चे सपनों के घरोंदे बनाते

आकृति मिटाते , बनाते, खिलखिलाते

गीले  होकर मन ही मन सयाते

हम भी एक दो छींटे सहलाते

और विचारों की सौंधी हवा में खो जाते

जैसे सुबह की ओंस की बूंदे मुंझे जगा रही हो
जैसे जन्नत या सपनों की मनोहारी तरंगे हो

गद्य और पद्य लिखते, मिटाते और सोचते

अपनी  प्राणप्रिये को गले लगाते

जिनको घर पर देख स्वभावबस गुसियाते

रेत की गर्मी और टहलते दौड़ते लोग

नावों पर सवार उन्मुक्त मस्त परवाने लोग

हर तरफ आनंद और अंतहीन मस्ती में डूबे लोग

तरो ताजा मेरे मन को करते मेरे मन के संतुष्ट भाव

18 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

maja aa gya tyagi ji aapke sath ...

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत खूब, लाजबाब !

डॉ टी एस दराल ने कहा…

रेत और पानी का समागम -बहुत सुन्दर नज़ारा है ।
मज़ा आ गया देखकर और कल्पना कर के ।
कविता में अपने सारे विचार बयाँ कर दिए । बहुत खूब ।

भवदीप सिंह ने कहा…

झूठ को सौ बार बोला जाये तो वो भी सच बन जाता है.

अपने अपनी यात्रा का वरदान सिर्फ दो बार ही करा है अभी तक.

abhi ने कहा…

जला रहे हो आप ये सुना सुना के,,:P
कविता तो बहुत सुन्दर है, और जो आपने बीच के बारे में लिखा है, उससे तो वहां जाने का दिल कर गया :)
कितना सुन्दर होता है बीच पे घूमना, वहां सब के साथ मिलकर खाना खाने के अलग ही आनंद है.
मैं तो जाने कब से बीच पे जाने की सोच रहा हूँ, लेकिन कभी मौका नहीं लग पा रहा

राम त्यागी ने कहा…

@भवदीप - अरे ये पता नहीं कैसे हो गया था, गलती सही कर दी गयी है ...

@अभी - तुम आर अभी आ जाओ - चलो घुमाते हैं तुमको ...

@दराल जी, चलो खुसी है कि आपको फोटो पसंद आये !!

संजय भास्कर तो बहुत दिन बार दिख रहे हो !! स्वागत हैं ...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

आपके वर्णन से मुझे कार्तिक पूर्णिमा के दिन का गंगा स्नान याद आ गया। रेत के टीलों में दौड़, ऊपर चढ़कर लुढ़कना, नदी में स्नान और फिर जो भी खोने को मिल जाये अमृतवत उदरस्थ कर लेना। वापस आकर अपराह्न की पूरी नींद।
आपके और बच्चों के आनन्द का अनुभव कर सकता हूँ।

Vivek Rastogi ने कहा…

मतलब अच्छी खासी वर्जिश कर ली रेत पर या रेत ने। वैसे रेत और पानी जहाँ साथ होते हैं अच्छी वर्जिश हो ही जाती है।

बच्चों के आनंद को तो जाना ही नहीं जा सकता है।

Arvind Mishra ने कहा…

यह है तत्क्षण काव्यानंद !

भुवनेश शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर जगह है....ऐसा खूबसूरत रेतीला किनारा चंबल के किनारे भी कहीं-कहीं है

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर जगह दिखाई आप ने, ओर गरिल देख कर तो मजा आ गया, पिछे समुंदर ही समुंदर

Udan Tashtari ने कहा…

घूम लिए तुम्हारे साथ साथ और कविता भी आनन्दित कर गई...

राम त्यागी ने कहा…

@प्रवीण जी, गंगा स्नान का अनुभव भी अपने आप में अनोखा होता है , पर गंगा को सफाई की सख्त जरूरत है !! चम्बल पर रेत मुझे ज्यादा दिखा है ...


@विवेक जी , वर्जिश का तो पूछिए मत , टीले कि चढाई ने कई दिनों का पसीन एक बार में ही बाहर ला दिया था !!

@भुबनेश , चम्बल का रेत कैसे भूल सकता हूँ, २ साल पहले सबलगढ़ के पास कैला देवी से आते हुए चम्बल के रेत में जीप फस गई थी, एक भाई को ५०० रुपये दिए , वो लोग भी बड़े माहिर थे, तुरंत गाडी को बाहर निकाल दिया ..उसके बाद नाव पर जीप को सवार कर चम्बल पार करी !!

@भाटिया जी और समीर जी - चलो बढ़िया आप लोग भी घूम लिए फ्री में ...अब आप जल्दी से जर्मनी ओर कनाडा की किसी जगह पर जल्दी से ले चलो :)

anoop joshi ने कहा…

raam ji bahut bahdiya.......

dhnyabad apne pal hamare saath baantaine hetu......

भवदीप सिंह ने कहा…

न्यू योर्क की सैर कब करवा रहे हो? तस्वीरों का बेसब्री से इन्तेजार हो रहा है

राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ ने कहा…

मजा आ गया
जितनी तारीफ़ की जाय कम है
सिलसिला जारी रखें
आपको पुनः बधाई
साधुवाद..साधुवाद
satguru-satykikhoj.blogspot.com

राम त्यागी ने कहा…

भवदीप - न्यू योर्क घुमाना शुरू हो चुका है - देखो यहाँ - http://kavitacollection.blogspot.com/2010/08/blog-post_07.html

अनूप, धन्यवाद !!
राजीव , धन्यवाद !! सिलसिला रारी रखने की पूरी कोशिश के जायेगी !!

राम त्यागी ने कहा…

भवदीप - न्यू योर्क घुमाना शुरू हो चुका है - देखो यहाँ - http://kavitacollection.blogspot.com/2010/08/blog-post_07.html

अनूप, धन्यवाद !!
राजीव , धन्यवाद !! सिलसिला रारी रखने की पूरी कोशिश के जायेगी !!