हिंदी - हमारी मातृ-भाषा, हमारी पहचान

हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए अपना योगदान दें ! ये हमारे अस्तित्व की प्रतीक और हमारी अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है !

बुधवार, 2 जून 2010

मोंट्रियल में

कुछ ही देर पहले मोंट्रियल में आगमन  ....ब्लॉग कल फुर्सत से  लिखूंगा ....

3 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

कल फोन भी लगा लेना..मैसेज तो मिल गया...सन्डे घर पर नहीं हूँ तो मन्डे शाम को मिलें. :)

राज भाटिय़ा ने कहा…

@ समीर जी
अभी तक आप के फ़ोन ही नही लगा? क्या पडोसी के फ़ोन से ही काम चला रहे थे:)

देव कुमार झा ने कहा…

बहुत सही... फ़ुर्सत मे आ जाओ भाई... इंतज़ार में बैठे हैं :)