हिंदी - हमारी मातृ-भाषा, हमारी पहचान

हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए अपना योगदान दें ! ये हमारे अस्तित्व की प्रतीक और हमारी अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है !

शनिवार, 22 मई 2010

मंगलौर दुर्घटना के मृतकों को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजली !!

Air India के विमान Boeing 737-800 की दुर्घटना में असमय मौत का शिकार हुए सभी यात्रियों को "मेरी आवाज" की तरफ से श्रद्धांजली  !!
ईश्वर इनकी आत्मा को शांति प्रदान करे !!

10 टिप्‍पणियां:

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

श्रद्धांजली

zeal ने कहा…

ईश्वर इनकी आत्मा को शांति प्रदान करे !!

Udan Tashtari ने कहा…

श्रद्धांजलि!

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

दुखद घटना! श्रद्धांजलि!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

हृदयाश्रुपूरित श्रद्धांजलि ।

Santosh ने कहा…

ईश्वर इनकी आत्मा को शांति प्रदान करे !!

देव कुमार झा ने कहा…

श्रद्धांजलि...

anoop joshi ने कहा…

uperwala marne walo ke ghar walo ko himat de.

भवदीप सिंह ने कहा…

शब्द नहीं हैं कुछ कहने को. आंसू भी मुक गए!
क्या कहें और किस्से कहें, जाने वाले तो चले गए!!

नाम आँखों से श्रधांजलि!

भवदीप सिंह ने कहा…

ऊपर लिखने के बाद अहसास हुआ के एक पंजाबी शब्द का इस्तेमाल कर दिया है. "आंसू मुक गए" मतलब "आंसू ख़तम हो गए"