हिंदी - हमारी मातृ-भाषा, हमारी पहचान

हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए अपना योगदान दें ! ये हमारे अस्तित्व की प्रतीक और हमारी अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है !

गुरुवार, 6 मई 2010

इंडिया का शेयर मार्केट बुरी तरह धराशायी होगा आज - सावधान !!

यूरोप के आर्थिक संकट के चलते DOW जोंस इंडेक्स ने ९०० से ज्यादा पॉइंट से ओंधे मुंह गिरा, ५ मिनट के लिए तो जैसे ट्रेडिंग वर्ल्ड में भूकंप आ गया हो.  वैसे इस पूरे सप्ताह ही मार्केट की हालत खराब रही है पर आज तो अति ही हो गयी.  ज्यादातर कंपनी के शेयर ५ से लेकर १० प्रतिशत तक गिरे. यहाँ तक कि ऐपल जैसी प्रतिष्ठित कंपनी का शेयर २६० से गिरकर १९९ तक पहुंचा और बाद में २४५ पर बंद हुआ.   नास्डाक, Dow और NYSE हर इंडेक्स की हालत खराब देखी गयी.

मार्केट की हालत, और ग्रीस एवं शेष यूरोप में चल रहे आर्थिक उहापोह से लग नहीं रहा कि मार्केट इस सप्ताह ऊपर आ पायेगा ..खैर ये तो अंदाज कि बात है.  पर आज के अमेरिकेन मार्केट को देख कर ये पक्का है कि इंडियन शेयर मार्केट भी बुरी तरह गिरेगा और ये मौका है और खरीदने का . मेरी सलाह यही होगी कि पैनिक में आकर बेंचे नहीं , पर हाँ अगर आप के पास पैसा है तो आप अपनी मनपसंद कंपनी में लगा सकते है.  

CBOE का वोलाटिलिटी इंडेक्स बहुत ऊपर जा रहा है , जिसका मतलब है कि मार्केट इस समय बहुत  डांवाडोल है, और किसी भी करवट बैठ सकता है.  ऐसे समय आपको अपनी वाच लिस्ट पर कड़ी निगाह रखनी चाहिए और जब मौका मिले तब खरीदने के लिए अपनी हैसियत के अनुसार तैयार रहना चाहिए.   मेरे हिसाब से ICICI बैंक बहुत गिरेगा और ये मौका अच्छा है कि आप इसमें इन्वेस्ट करें.

< ये विचार सिर्फ मेरे है और ये लेख  किसी का पक्ष लेने के लिए नहीं लिखा गया है. >

9 टिप्‍पणियां:

Suman ने कहा…

nice

Suman ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
रंजन ने कहा…

शाम को वापस आता हूँ,,

राम त्यागी ने कहा…

हाहा सही बोला आपने ...जरूर ...देखते है कैसा मार्केट रहता है आज ...

Udan Tashtari ने कहा…

आज तो यू एस मार्केट की बैण्ड बज गई जरा सी टाईपो से. :)

yugal mehra ने कहा…

भारत पर इस संकट का ज्यादा असर नहीं होना चाहिए. यदि मार्केट गिरता भी है तो लगता है की यही कुछ दिन है जब हमें हमरे शेयर वापस कम दामो ने मिल सकते हैं, मैं तो इसे खरीदारी का मौका मानूंगा

बेनामी ने कहा…

स्टॉक मार्केट वैसे नौटंकी ही है यार. अब खुद देख लो. डाओ हजार पॉइंट गिरा. सबने अपने अपने तरीके से जाँच पड़ताल करी और निष्कर्ष निकले. अंत में सचाई सामने आयी की भाई वो तो इक विद्वान् सट्टेबाज ने गलती से इक अक्षर गलत टाईप कर दिया था.

चलो जी आब टाईप करी हुए गलती सामने आ गए तो सब के सब विद्वान् अपना निष्कर्ष वापस ले लो. यूरोपे ठीक ठाक है. डोल्लर भी ठीक है. रोजगार की भी हालत अब ठीक है. वो तो गलती से सब लिख दिया था !

-- भवदीप सिंह

राम त्यागी ने कहा…

यार कल की गलती से १००० पॉइंट डाउन गया था पर अंत में और पिछले ५ दिनों को देखा जाए तो मामला रेड में ही है, वोलाटिलिटी के हिसाब से मार्केट में डाउन का माहोल तो है ही इस सप्ताह . देखो कल ३०० पॉइंट के आसपास डाउन बंद हुआ और आज फिर से डाउन है ....वोलाटिलिटी इंडेक्स भी बढ रहा है. यूरोप की हालत उतनी अच्छी नहीं है अभी.

कुल मिलकर में तो इसे खरीददारी का मार्केट कहूँगा ...पर समझदारी और धैर्य के साथ.

बेनामी ने कहा…

राम तुमने बिलकुल सही बोला.

में सिर्फ कल की नौटंकी की बात कर रहा था. कभी कभी लगता है के वाल स्ट्रीट पर क्या बन्दर बैठे हैं?

--भवदीप सिंह