हिंदी - हमारी मातृ-भाषा, हमारी पहचान

हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए अपना योगदान दें ! ये हमारे अस्तित्व की प्रतीक और हमारी अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है !

मंगलवार, 27 अप्रैल 2010

वैशाखनंदन सम्मान प्रतियोगिता मे मेरी प्रविष्टि

वैशाखनंदन सम्मान प्रतियोगिता मे मेरी प्रविष्टि यहाँ (क्लिक करके) पढें..  धन्यवाद !!

4 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बधाई प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत-बहुत बधाई!

राम त्यागी ने कहा…

धन्यवाद !!

बेनामी ने कहा…

पहले तो मुझे लगा के तुम गंभीर हो. और सही में राजनीतिज्ञों की तारीफ कर रहे हो.

थोडा पड़ने पर पता चला के यार तुम तो व्यंग लिख रहे हो.

बहुत अच्चा लगा.

--भवदीप सिंह